India के ग्रामीण इलाकों की खबरें, साथ ही साथ खेल, मनोरंजन, राजनीती, शिक्षा, बाजार सम्बंधित सभी वायरल हलचल सबसे तेज।

नपुंसकता से छुटकारा पाने के 7 घरेलू उपाय देसी नुश्खे।

बचपन की ग़लत आदतों, व्यस्त जीवनशैली, गलत खान पान, शरीर में पोषक तत्वों की कमी की वजह से पुरुषों और व्यस्क लड़कों में मर्दाना कमज़ोरी की समस्या होना आम है। नपुंसकता एक ऐसी प्राब्लम है जिसके कारण पुरुष को कई बार शर्मिंदगी उठानी पड़ती है। इस रोग की वजह से व्यक्ति महिला के संपर्क में आने से झिझकते हैं जिस कारण वो अपनी सेक्स लाइफ का आनंद नहीं ले पाते। इलाज ना होने पर इस समस्या से शादीशुदा व्यक्ति के जीवन में शादी टूटने की नोबत तक आ जाती है। इस लेख में हम नपुंसकता का उपचार के घरेलू उपाय और आयुर्वेदिक नुस्खे जानेंगे, home remedy for impotence treatment in hindi.

अक्सर कुछ लोग नपुंसक नहीं होते पर किसी मानसिक रोग, डर या घबराहट की वजह से जल्दी उतेज़ित नहीं हो पाते और अपने पार्टनर से दूरी बनाने लगते है और कुछ समय बाद यही घबराहट और डर उसे नपुंसक बना देती है।




अक्सर जब व्यक्ति को मालूम पड़ता है की उसे नपुंसकता की बीमारी है तब वो डॉक्टर से मिलने में झिझकता है जिस वजह से उसका इलाज जल्दी शुरू नहीं होता। दूसरे रोगों की तरह नपुंसकता भी एक रोग ही है इस लिए आपको जेसे ही कोई मर्दाना कमजोरी या नपुंसकता के लक्षण दिखाई दे तभी डॉक्टर से मिले और जाने की ये कोई और बीमारी है या नपुंसकता ही है ताकी सही समय इसका उपचार हो सके।





नपुंसकता क्या है : What is Impotence

पुरुष का लिंग उतेजना आने के बाद जल्दी शांत हो जाना, उतेजना ना आना या फिर उतेज़ित होते ही वीर्य जल्दी निकल जाना नपुंसकता की बीमारी है। जिन पुरुषों में संभोग करने की उतेजना नहीं होती वे पूरी तरह से नपुंसकता से प्रभावित है और जो व्यक्ति उतेज़ित तो होते है पर जल्दी शांत हो जाते है वे आंशिक नपुंसकता से ग्रस्त है।



नपुंसकता के कारण : Causes

नपुंसकता रोग 2 कारणों से होता है – मानसिक और शारीरिक। अधिक तनाव लेना और जादातर चिंता में रहने पर मानसिक होता है और शरीर में किसी दूसरी बीमारी या कमजोरी की वजह शारीरिक है। कुछ और कारणों से भी नपुंसकता होती है।

हार्मोंस में बदलाव आना।
स्टेरॉयड लेने से भी व्यक्ति नपुंसक हो सकता है।
हाइ ब्लड प्रेशर, दिल की बीमारी और शुगर भी नपुंसकता की वजह बनती है।
किसी दुर्घटना में नस कटना या स्पाइनल कॉर्ड में चोट लगना।
धूम्रपान, ड्रग्स और शराब का सेवन।
हस्तमैथुन जादा करने और स्वपनदोष जादा होने के कारण भी स्पर्म में कमी आ जाती है।


नपुंसकता के लक्षण : Impotence Symptoms

पार्ट्नर को छूते ही डिसचार्ज होना।
संभोग के वक़्त जल्दी वीर्य निकल जाना।
संभोग के वक़्त लिंग में कड़कपन ना आना या कड़कपन जादा देर तक ना रहना।


नपुंसकता का उपचार के घरेलू उपाय और नुस्खे

Impotence Treatment Tips in Hindi

इस लेख में हम कुछ आसान से घरेलू उपाय बता रहे है जिनके निरंतर प्रयोग करने पर आप नपुंसकता का इलाज कर सकते है।

1. जामुन की गुठली पीस कर इसका पाउडर बना ले और गरम दूध के साथ हर रोज ले। इस उपाय से स्पर्म की संख्या बढ़ने लगेगी।

2. शीघ्रपतन रोकने के लिए 1/2 चम्मच पीसी हुई मिश्री, 1/2 चम्मच सफेद प्याज का रस, 1/2  चम्मच शहद मिला कर हर रोज 2 बार ले।



3. 25 ग्राम सफेद मुसली और 10 ग्राम तुलसी के बीज लेकर इसका चूर्ण बना ले और इसमें पीसी हुई मिश्री 60 ग्राम मिलाकर एक डब्बी में डाल कर रख दे। 5 – 5 ग्राम चूर्ण सुबह शाम गाय के दूध के साथ सेवन करने से शीघ्रपतन से राहत पा सकते है।

4 बादाम, इलायची के दानों का 2 ग्राम ग्राम, 10 ग्राम मिश्री और जावित्री का चूर्ण 1 ग्राम ले।  रात को बादाम की गिरियाँ पानी में भिगो दे और सुबह इन्हे पीस ले। अब बाकी की चीज़े और इस पेस्ट में मिलाये और साथ ही 2 चम्मच मखन मिलाकर सुबह के वक़्त सेवन करे। इस घरेलू उपचार से स्पर्म की संख्या बढ़ती है और मर्दाना कमजोरी की समस्या दूर होती है।

5. दो बादाम, चार से पाँच छुहारे और दो से तीन काजू 300 ग्राम दूध में उबाल कर इसमें मिश्री मिला ले और रात को सोने से पहले पिए। इस देसी नुस्खे से योन शक्ति और ताक़त बढ़ती है।

6. 200 ग्राम लहसुन को पीस ले और 60 ग्राम शहद में मिलाकर एक शीशी या डब्बी में भर कर अच्छे से बंद कर दे और इस शीशी को एक महीने के लिए अनाज में रख दे। 1 महीने के बाद 40 दिनों तक 10 ग्राम की मात्रा में इसका सेवन करे। इस उपाय से शारीरिक दुर्बलता दूर होती है और योन शक्ति बढ़ती है।

7. वीर्य अधिक पतला हो तो आधा चम्मच हल्दी पाउडर एक चम्मच शहद में मिला कर सुबह सुबह खाली पेट सेवन करे। हर रोज इस उपचार को नियमित रूप से  करने पर संभोग शक्ति बढ़ती है।



नपुंसकता से बचने और इससे छुटकारा पाने के लिए योगा करने से भी फायदा मिलेगा।



नपुंसकता का इलाज के आयुर्वेदिक नुस्खे



1. 

No comments:

Post a Comment